साथियों, देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है। इसलिए हम सभी को सजग रहने की जरूरत है। वैक्सीन जरूर लगायें और कोविड नियमों का पालन करें। तभी हम स्वयं की व दूसरों की सुरक्षा कर पाने में सक्षम हो पायेेंगे।

मुसाफिर का कोई घर नहीं होता

मुसाफिर का कोई घर नहीं होता

 

गाँव, कस्बा या कोई शहर नहीं होता

आज यहाँ है तो कल वहाँ

यारो मुसाफिर का कोई घर नहीं होता। 

 

उम्मीदों के चिराग जलाये, रात-दिन घूमते हैं

मंजिल को याद कर पल-पल झूमते हैं। 

क्योंकि सपनों का कोई शिखर नहीं होता। 

यारो मुसाफिर का कोई घर नहीं होता। 

 

कैसी भी हो बाधा अनवरत चलते हैं

हर जख्म को मरहम में बदलते हैं

बुलंद हौसलों को किसी का डर नहीं होता। 

यारो मुसाफिर का कोई घर नहीं होता। 

 

सच के लिए जीवन जीते हैं

जमाने के दिए कटु अनुभव पीते हैं

लाखों की हो रिश्वत, फिर भी दृढ़ता पर असर नहीं होता

यारो मुसाफिर का कोई घर नहीं होता। 

 

जिंदगी एक सराय है, कल सभी को जाना है

कुछ पल की उदासी है, कुछ पल का तराना है

रंक तो रंक है साथी, राजा भी यहाँ अमर नहीं होता

यारो मुसाफिर का कोई घर नहीं होता। 

 

© Dr. Pawanesh

Share this post

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!