साथियों, देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है। इसलिए हम सभी को सजग रहने की जरूरत है। वैक्सीन जरूर लगायें और कोविड नियमों का पालन करें। तभी हम स्वयं की व दूसरों की सुरक्षा कर पाने में सक्षम हो पायेेंगे।

Category: डॉ. पवनेश की कुमाउनी बाल कविताएँ

10 कुमाउनी बाल कविता-2

10 कुमाउनी बाल कविता-2 1. धौनी काकू धौनी काकू-धौनी काकू छक्क किलै लगूँछा तुम सिईनाक दर्शकों कें झटपट किलै जगूँछा तुम।   2.गर्ज्यागान गोल गोल- गर्ज्यागान थिक थोल- गर्ज्यागान ठुलो ठुलो – गर्ज्यागान मेरो लाड़िलो- गर्ज्यागान।    3. पिपरी बाज ललुवा बजौ- पिपरी बाज कलुवा बजौ- पिपरी बाज मी ले बजूँ – पिपरी बाज तू

10 कुमाउनी बाल कविताएँ- 01

कुमाउनी बाल कविताएँ 1.बिराउ कैं बुखार एक द्वी तीन चार, बिराउ कैं ऐगो भौत बुखार। पांच छै सात आठ, मुसाक हैरईं भौतै ठाठ।। 2. गुणि ददा ! गुणि ददा, गुणि ददा, तू मीकैं इक बात बता। कसिकै रूख में चढ़छैं, कसिकै क ख तूं पढ़छैं। 3. बोलि कुकुड़ बासूँ कूँ- कूँ, वानर करूं खूँ- खूँ।
error: Content is protected !!