साथियों, देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है। इसलिए हम सभी को सजग रहने की जरूरत है। वैक्सीन जरूर लगायें और कोविड नियमों का पालन करें। तभी हम स्वयं की व दूसरों की सुरक्षा कर पाने में सक्षम हो पायेेंगे।

Category: डॉ. पवनेश का कुमाउनी साहित्य

लोकगायिका कबूतरी देवी का एक साक्षात्कार ( A Interview with Kumauni folk Singer Kabutari Devi )

लोक गौरवः कबूतरी देवी दगड़ि इंटरव्यू- लोक कलाकारोंकैं उचित सम्मान मिलन चैं- कबूतरी देवी ( मशहूर कुमाउनी लोकगायिका कबूतरी देवीक 7 जुलाई, 2018 हुं निधन भौ। कबूतरी देवी आपण गीतों माध्यमल हमार बीच हमेशा रौलि। यो साक्षात्कार उनरि चेलि लोकगायिका हेमंती देवीक घर सेरी कुंडार (पिथौरागढ़) में दोफरीक 1.20 बाजी लेखक व शिक्षक डाॅ. पवनेश

10 कुमाउनी बाल कविता-2

10 कुमाउनी बाल कविता-2 1. धौनी काकू धौनी काकू-धौनी काकू छक्क किलै लगूँछा तुम सिईनाक दर्शकों कें झटपट किलै जगूँछा तुम।   2.गर्ज्यागान गोल गोल- गर्ज्यागान थिक थोल- गर्ज्यागान ठुलो ठुलो – गर्ज्यागान मेरो लाड़िलो- गर्ज्यागान।    3. पिपरी बाज ललुवा बजौ- पिपरी बाज कलुवा बजौ- पिपरी बाज मी ले बजूँ – पिपरी बाज तू

10 कुमाउनी बाल कविताएँ- 01

कुमाउनी बाल कविताएँ 1.बिराउ कैं बुखार एक द्वी तीन चार, बिराउ कैं ऐगो भौत बुखार। पांच छै सात आठ, मुसाक हैरईं भौतै ठाठ।। 2. गुणि ददा ! गुणि ददा, गुणि ददा, तू मीकैं इक बात बता। कसिकै रूख में चढ़छैं, कसिकै क ख तूं पढ़छैं। 3. बोलि कुकुड़ बासूँ कूँ- कूँ, वानर करूं खूँ- खूँ।

छ्योड़ि पगली गै

      छ्योड़ि पगली गै बाँजक हरिया-भरिया जङ्व में सरसराट-फरफराट करनीं ठंडि-ठंडि हाव चलणैछि। घुघुतीकि घूर-घूर हौर चाड़-पिटांङोकि चड़-चड़, पड़-पड़ वातावरण कैं मोहक बणूंनैछि। याँ जानवर भौतछि चाड़-पिटांङ भौत छि लेकिन मनखि जातिक दूर-दूर तक क्वे निशान नै छि। ये जङवक दुहरि तरफ पारि डाण में एक गौं छि। ये गौं का बुड़-बाड़ी कूँछि कि ये
error: Content is protected !!