साथियों, देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है। इसलिए हम सभी को सजग रहने की जरूरत है। वैक्सीन जरूर लगायें और कोविड नियमों का पालन करें। तभी हम स्वयं की व दूसरों की सुरक्षा कर पाने में सक्षम हो पायेेंगे।

Category: साहित्यिक समाचार

लाकडाउन के बाद सांस्कृतिक नगरी में पहली बार आयोजित हुआ हिंदी कवि सम्मेलन

लाकडाउन के बाद सांस्कृतिक नगरी में पहली बार आयोजित हुआ हिंदी कवि सम्मेलन    अल्मोड़ा, देवभूमि उत्तराखंड की सांस्कृतिक नगरी अल्मोड़ा में मोहन उप्रेती लोक संस्कृति कला एवं विज्ञान शोध समिति के तत्वावधान में हिंदी कवि सम्मेलन का आयोजन हुआ।      कवि सम्मेलन का शुभारंभ अध्यक्ष व मुख्य अतिथि द्वारा सरस्वती के चित्र पर

कुमाउनी भाषा को 8वीं अनुसूची में मिले स्थान- सौंपा ज्ञापन

कुमाउनी भाषा को 8वीं अनुसूची में मिले स्थान     अल्मोड़ा, कुमाउनी भाषा, साहित्य व संस्कृति प्रचार समिति कसारदेवी, अल्मोड़ा की नई कार्यकारिणी के पदाधिकारियों द्वारा जिलाधिकारी अल्मोड़ा के माध्यम से मुख्यमंत्री उत्तराखंड श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को ज्ञापन प्रेषित किया गया। ज्ञापन में कुमाउनी भाषा सम्मेलन, 2020 में पारित 8 प्रस्तावों को अमल में

कुमाउनी- गढ़वाली लोकभाषाओं को संविधान की 8वीं अनुसूची में स्थान मिले- डॉ. रावत

कुमाउनी-गढ़वाली को संविधान की 8वीं अनुसूची में स्थान मिले- डॉ. रावत *12 वें तीन दिवसीय राष्ट्रीय कुमाउनी भाषा सम्मेलन का अंतिम दिवस।  *स्थान- जी० बी० पंत राजकीय संग्रहालय, अल्मोड़ा। *आयोजक संस्था- कुमाउनी भाषा, साहित्य व संस्कृति प्रचार समिति, कसारदेवी व ‘पहरू’ मासिक पत्रिका।       सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय, अल्मोड़ा में कुमाउनी भाषा विभाग को

अल्मोड़ा के कुमाउनी भाषा विभाग में होगी शिक्षकों की नियुक्ति- कुलपति प्रो० नरेंद्र सिंह भंडारी

अल्मोड़ा के कुमाउनी भाषा विभाग में होगी शिक्षकों की नियुक्ति– कुलपति प्रो० नरेंद्र सिंह भंडारी *12 वें तीन दिवसीय राष्ट्रीय कुमाउनी भाषा सम्मेलन का द्वितीय दिवस।  *स्थान- जी० बी० पंत राजकीय संग्रहालय, अल्मोड़ा। *आयोजक संस्था- कुमाउनी भाषा, साहित्य व संस्कृति प्रचार समिति, कसारदेवी व ‘पहरू’ मासिक पत्रिका।       सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय, अल्मोड़ा में

अनुवाद लेखन से होगा कुमाउनी साहित्य का विकास- मोहन चंद्र जोशी

अनुवाद लेखन से होगा कुमाउनी साहित्य का विकास *12 वां तीन दिवसीय राष्ट्रीय कुमाउनी भाषा सम्मेलन हुआ शुरू।  * स्थान- पं० जी० बी० पंत राजकीय संग्रहालय, अल्मोड़ा।         कुमाउनी में अनुवाद का कार्य व्यापक स्तर पर हो रहा है। अन्य भाषाओं के श्रेष्ठ साहित्य का कुमाउनी में अनुवाद करने से कुमाउनी साहित्य का

कुमाउनी रचनाकार त्रिलोक सिंह सतवाल को मिलेगा प्रथम के. एन. जोशी स्मृति अनुवाद लेखन पुरस्कार-2020 

कुमाउनी रचनाकार त्रिलोक सिंह सतवाल को मिलेगा प्रथम के. एन. जोशी स्मृति अनुवाद लेखन पुरस्कार– 2020       अल्मोड़ा। कुमाउनी भाषा व साहित्य के उन्नयन के लिए प्रयासरत संस्था ‘कुमाउनी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति प्रचार समिति कसारदेवी, अल्मोड़ा‘ द्वारा ‘के0 एन0 जोशी स्मृति अनुवाद लेखन पुरस्कार 2020’ की घोषणा की गई। संस्था के सचिव व

द्वितीय ‘गंगा अधिकारी स्मृति नाटक लेखन पुरस्कार’ अल्मोड़ा के नवीन बिष्ट को

द्वितीय ‘गंगा अधिकारी स्मृति नाटक लेखन पुरस्कार’ अल्मोड़ा के नवीन बिष्ट को          अल्मोड़ा। कुमाउनी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति प्रचार समिति के उन्नयन के लिए प्रयासरत संस्था ‘कुमाउनी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति प्रचार समिति कसारदेवी अल्मोड़ा द्वारा ‘गंगा अधिकारी स्मृति नाटक लेखन पुरस्कार 2020’ की घोषणा की गई। संस्था के सचिव व ‘पहरू’

राज्य स्थापना दिवस पर दूरदर्शन उत्तराखंड करेगा पहली बार युवा कुमाउनी कवि सम्मेलन का प्रसारण

राज्य स्थापना दिवस पर दूरदर्शन उत्तराखंड करेगा पहली बार युवा कुमाउनी कवि सम्मेलन का प्रसारण            उत्तराखंड राज्य स्थापना दिवस 9 नवंबर को दूरदर्शन उत्तराखंड पहली बार युवा कुमाउनी कवि सम्मेलन का प्रसारण करने जा रहा है। कार्यक्रम सहायक विकास कोटनाला जी ने बताया कि इस कवि सम्मेलन का प्रसारण 9

राष्ट्रीय कुमाउनी भाषा सम्मेलन, 2019 समापन दिवस

11वें राष्ट्रीय कुमाउनी भाषा सम्मेलन का समापन     कुमाउनी भाषा, साहित्य व संस्कृति प्रचार समिति कसारदेवी व ‘पहरू’ कुमाउनी मासिक पत्रिका द्वारा 10, 11 व 12 नवम्बर, 2019 को नौकुचियाताल में आयोजित इस सम्मेलन में तीन दिन तक कुमाउनी में विविध विधाओं में लिखे जा रहे साहित्य पर मंथन हुआ। सम्मेलन में कुमाउनी, गढ़वाली

कुमाउनी भाषा सम्मेलन- द्वितीय दिवस

उत्तराखंड में कुमाउनी, गढ़वाली भाषा अकादमी स्थापित की जाए * कुमाऊँ विश्वविद्यालय में एम.ए. में कुमाउनी भाषा का संस्थागत पाठ्यक्रम यथाशीघ्र शुरू किया जाए।  * विश्वविद्यालयों में कुमाउनी भाषा विभाग खोला जाए।      कुमाउनी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति प्रचार समिति कसारदेवी, अल्मोड़ा व ‘पहरू’ मासिक पत्रिका द्वारा आयोजित नौकुचियाताल में चल रहे 11वें राष्ट्रीय
error: Content is protected !!