साथियों, देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है। इसलिए हम सभी को सजग रहने की जरूरत है। वैक्सीन जरूर लगायें और कोविड नियमों का पालन करें। तभी हम स्वयं की व दूसरों की सुरक्षा कर पाने में सक्षम हो पायेेंगे।

Category: हिंदी पुस्तक चर्चा

बल्ली सिंह चीमा का गजल संग्रह: जमीन से उठती आवाज 

बल्ली सिंह चीमा का गजल संग्रह: जमीन से उठती आवाज  पुस्तक के विषय में:  जमीन से उठती आवाज         ‘जमीन से उठती आवाज’ जनकवि बल्ली सिंह चीमा का गजल संग्रह है। इसका पहला संस्करण नीलाभ प्रकाशन, इलाहाबाद से 1990 में प्रकाशित हुआ था। इसमें चीमा जी की 1978 से 1990 तक की गजलें

सोरघाटी के लोकजीवन का दस्तावेज: सोर की लोक थात

     प्रिय पाठकों, आज हम आपको ले चलते हैं मिनी कश्मीर कहे जाने वाले सीमांत जनपद पिथौरागढ़ की ओर और चर्चा करते हैं पद्मादत्त पंत द्वारा लिखित पुस्तक ‘सोर की लोक थात’ के विषय में।  पुस्तक के विषय में- सोर की लोक थात        ‘सोर की लोक थात’ पुस्तक के लेखक पद्मादत्त

उत्तराखंड के लोकसाहित्य का आयामी परिदृश्य: प्रो. डी. डी. शर्मा

प्रिय पाठकों, आज हम आपको ले चलते हैं उत्तराखंड के लोक साहित्य की ओर और चर्चा करते हैं प्रो० डी० डी० शर्मा द्वारा लिखित पुस्तक ‘उत्तराखंड के लोकसाहित्य का आयामी परिदृश्य’ की।  पुस्तक के विषय में- उत्तराखंड के लोकसाहित्य का आयामी परिदृश्य      ‘उत्तराखंड के लोकसाहित्य का आयामी परिदृश्य’ पुस्तक के लेखक प्रो.डी.डी. शर्मा

रूद्रनाथ की अलौकिक यात्रा का वर्णन: जादुई बुग्यालों के पार

रूद्रनाथ की अलौकिक यात्रा का वर्णन: जादुई बुग्यालों के पार साथियों, पुस्तक चर्चा के अन्तर्गत आज हम बात करेंगे यात्रावृतांत ‘जादुई बुग्यालों के पार’ का। इस पुस्तक के लेखक हैं- मनीष ओली। पुस्तक के विषय में- जादुई बुग्यालों के पार      ‘जादुई बुग्यालों के पार’ पुस्तक के लेखक मनीष ओली हैं। इस पुस्तक का

त्रिभुवन गिरि का आंचलिक खंडकाव्य: क्या पहचान प्रिया की होगी

हिंदी खंडकाव्य: क्या पहचान प्रिया की होगी साथियों, पुस्तक चर्चा के अन्तर्गत आज हम बात करेंगे हिंदी खंडकाव्य ‘क्या पहचान प्रिया की होगी’ की। इस खंडकाव्य के रचयिता हैं- त्रिभुुवन गिरि।   खंडकाव्य के विषय में- क्या पहचान प्रिया की होगी      ‘क्या पहचान प्रिया की होगी’ उत्तराखंड के प्रसिद्ध लेखक त्रिभुवन गिरि का हिंदी

न्यौलि विधा की एकमात्र पुस्तक: न्यौलि सतसई

    प्रिय पाठकों, आज हम आपको ले चलते हैं उत्तराखंड के लोक साहित्य की ओर और चर्चा करते हैं लोक साहित्य की विधा ‘न्यौली’ से संबंधित पुस्तक ‘न्यौली सतसई’ की। पुस्तक के विषय में- न्यौली सतसई         ‘न्यौली सतसई-१’ पुस्तक के लेेेेखक डॉ. देव सिंह पोखरिया हैं। इस पुुुस्तक का प्रकाशन

मानसखंड: कुमाऊँ के इतिहास की महत्वपूर्ण पुस्तक

     कुमाऊँ के इतिहास, समाज और संस्कृति को जानने के लिए हेमा उनियाल द्वारा लिखित ‘मानसखंड’ एक महत्वपूर्ण पुस्तक है। आइये जानते हैं पुस्तक के विषय में- पुस्तक परिचय- मानसखंड      मध्य हिमालय उत्तराखंड दो मंडलों कुमाऊँ एवं गढ़वाल में विभक्त है, जिसके अंतर्गत 13 जनपद शामिल हैं। प्राचीन साहित्य में कुमाऊँ को

उत्तराखंड में नंदा- माँ नंदा पर केंद्रित महत्वपूर्ण पुस्तक

प्रिय पाठकों, आज हम बात करते हैं माँ नंदा पर महत्वपूर्ण जानकारी देने वाली शोधपरक पुस्तक ‘उत्तराखंड में नंदा’ के विषय में- पुस्तक के विषय में- उत्तराखंड में नंदा        ‘उत्तराखंड में नंदा’ डॉ. ललित चंद्र जोशी ‘योगी’ द्वारा लिखित पुस्तक है। यह पुस्तक देवभूमि प्रकाशन, हल्द्वानी से 2015 में प्रकाशित हुई है।

मां नंदा की महिमा गाथा- माँ नंदा चालीसा

प्रिय पाठकों, क्या आपको पता है गोस्वामी तुलसीदास जी रचित ‘हनुमान चालीसा’ की तर्ज पर ‘माँ नंदा चालीसा’ की भी रचना की गई है। आइये जानते हैं इस पुस्तक के विषय में- पुस्तक के विषय में- माँ नंदा चालीसा         ‘माँ नंदा चालीसा’ की रचना प्रसिद्ध रंगकर्मी ब्रजेंद्र लाल साह ने की।
error: Content is protected !!