साथियों, देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है। इसलिए हम सभी को सजग रहने की जरूरत है। वैक्सीन जरूर लगायें और कोविड नियमों का पालन करें। तभी हम स्वयं की व दूसरों की सुरक्षा कर पाने में सक्षम हो पायेेंगे।

Tag: Tribhuvan giri

त्रिभुवन गिरि का आंचलिक खंडकाव्य: क्या पहचान प्रिया की होगी

हिंदी खंडकाव्य: क्या पहचान प्रिया की होगी साथियों, पुस्तक चर्चा के अन्तर्गत आज हम बात करेंगे हिंदी खंडकाव्य ‘क्या पहचान प्रिया की होगी’ की। इस खंडकाव्य के रचयिता हैं- त्रिभुुवन गिरि।   खंडकाव्य के विषय में- क्या पहचान प्रिया की होगी      ‘क्या पहचान प्रिया की होगी’ उत्तराखंड के प्रसिद्ध लेखक त्रिभुवन गिरि का हिंदी

कुमाउनी महाकाव्य: गोरिल, Kumauni Epic: Goril

कुमाउनी महाकाव्य: गोरिल, रचनाकार- त्रिभुवन गिरि Kumauni Epic: Goril, Composer- Tribhuvan Giri पुस्तक चर्चा के अन्तर्गत आज हम बात करेंगे, कुमाउनी महाकाव्य ‘गोरिल’ की। गोरिल महाकाव्य के रचयिता हैं- त्रिभुुवन गिरि।                 *गोरिल महाकाव्य के विषय में* गोरिल महाकाव्य       गोरिल महाकाव्य कुमाऊँ के न्याय देवता ‘गोलू
error: Content is protected !!