साथियों, देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है। इसलिए हम सभी को सजग रहने की जरूरत है। वैक्सीन जरूर लगायें और कोविड नियमों का पालन करें। तभी हम स्वयं की व दूसरों की सुरक्षा कर पाने में सक्षम हो पायेेंगे।

Tag: साहित्यकार पूरन चंद्र कांडपाल

कुमाउनी कवि पूरनचंद्र कांडपाल की कुमाउनी कविताएँ

पूरनचंद्र कांडपाल की कुमाउनी कविताएँ 1. इज है ठुल को ?  न सरग न पताव न तीरथ न धाम, इज है ठुल क्वे और न्हैति मुकाम। आपूं स्येतीं गिल म हमूकैं स्येवैं वबाण, हमार ऐरामा लिजी वीक ऐराम हराण। इज क कर्ज है दुनिय में क्वे उऋण नि है सकन, आंचव में पीई दूद क

कुमाउनी कहानी संग्रह: भल करौ च्यला त्वील (Kumauni story Collection: Bhal karau chyala twil)

कुमाउनी कहानी संग्रह: भल करौ च्यला त्वील Kumauni story Collection: Bhal karau chyala twil       साथियों, क्या आप उस शख्सियत का नाम जानते हैं, जिसका कुमाउनी में बच्चों के लिए साहित्य लिखने में विशेष योगदान है ? आइये आज हम चर्चा करते हैं कुमाउनी के इसी कथाकार के कुमाउनी कहानी संग्रह ‘भल करौ
error: Content is protected !!