साथियों, देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है। इसलिए हम सभी को सजग रहने की जरूरत है। वैक्सीन जरूर लगायें और कोविड नियमों का पालन करें। तभी हम स्वयं की व दूसरों की सुरक्षा कर पाने में सक्षम हो पायेेंगे।

हरीतिमा: 100 पर्यावरणीय कविताओं का राष्ट्रीय संकलन ( HAREETIMA : A Collection of 100 environmental poetrys)


हरीतिमा: 100 पर्यावरणीय कविताओं का राष्ट्रीय संकलन ( HAREETIMA : A Collection of 100 environmental poetrys)


हरीतिमा (Hareetima)- राष्ट्रीय ई काव्य संकलन

पत्रिका की पीडीएफ (PDF) यहाँ से 👆👆 डाउनलोड कीजिए।

      हरीतिमा: इस राष्ट्रीय ई काव्य संकलन में देशभर के 100 कवियों की पर्यावरण पर केंद्रित कुल 100 कविताएँ। अनुक्रमणिका नीचे दी जा रही है-

१. आओ प्रकृति की ओर चलें- डॉ० विद्यासागर कापड़ी
२. लौटकर देखना तुम कभी गाँव में- मनोज कुमार सामरिया ‘मनु’
३. लौट के फिर ना आएंगे- नीरज पंत
४. हे मानव मत कर मनमानी-डॉ. राजेश कुमार जैन
५. हरा-भरा देश होवे- राज वीर सिंह
६. पर्यावरण बचाइए- दोहे- दिलीप कुमार पाठक ‘सरस’
७. आओ पर्यावरण सुधारें- डॉ. भगवत स्वरूप ‘शुभम’
८. लगाएं हम सब पेड़- २ कुंडलियाँ- आलोक कुमार यादव
९. कृत्रिम पर्यावरण संकल्प- कुमार जितेन्द्र ‘जीत’
१०. आज करो प्रण- मधु सक्सेना
११. प्रकृति जीवनदायनी है- एस. के. कपूर ‘श्री हंस’
१२. धरती दूषित हो गयी- २ कुण्डलिया- दिनेश श्रीवास्तव
१३. पर्यावरण बचाएँगे- रवि रश्मि ‘अनुभूति ‘
१४. हरियाली दो !- संजय बहीदार
१५. विश्व में ये संदेश फैलाएँ ब्रह्मानंद गर्ग “सुजल”
१६. वृक्षारोपण करें- डॉ. देशबन्धु भट्ट
१७. प्रकृति के वेश- सत्य प्रकाश सिंह 
१८. पावन धरती स्वच्छ हो- २ कुंडलियाँ अरविन्द सिंह ‘वत्स’
१९. हरियाली हो ! खुशहाली हो !! नरेश उनियाल
 २०. मित्र बनाएँ पेड़ को- दोहे मनोज कुमार खोलिया
२१. वृक्ष धरा पर मित्र हैं- दोहे मीना भट्ट
२२. शुद्ध रहे परिवेश- बी. एस. आनन्द
२३. स्वच्छ निर्मल सी बहती हवा- नीमा शर्मा ‘हंसमुख’
२४. प्रकृति देती संदेश- निक्की शर्मा रश्मि 
२५. वृक्ष की पीड़ा- हितेन प्रताप सिंह ‘तड़प’

२६. पेड़ काटना वर्जित- घनाक्षरी सच्चिदानंद तिवारी
२७. पर्यावरण है बचाना- दलवीर मोहन
२८. वसुधा काहे जल रही- दोहेे- नवीन कुमार तिवारी ‘अथर्व’
२९. गर्मी बढ़ती जा रही- दोहे- राजेश कुमार तिवारी ‘रामू’
३०. तेरा कर्जदार हूँ मैं- गीतांजलि वार्ष्णेय
३१. लगायें सभी वृक्ष- डॉ. प्रभा जैन ‘श्री’
३२. खुशहाली का ताज शज़र- प्रज्ञा शर्मा
३३. पेड़ बहुत लगाइए- डॉ. भावना दीक्षित ‘ज्ञानश्री’
३४. वृक्ष लगायें- शिव शंकर बोहरा ‘लाडनूं’
३५. आओ सब संकल्प लें- दोहे- शिव कुमार लिल्हारे ‘अमन’
३६. धरती माँ पुकारती- सुमति श्रीवास्तव
३७. हरियाली लाइए- नेमलता पटेल ‘नम्रता’
३८. हरियाली सुहायो है- छगन लाल गर्ग विज्ञ! 
३९. कटने लगे जो वन- तेजराम नायक
४०. हरा जग को बनाना है- संतोष जोशी ‘सुधाकर’
४१. वृक्ष यूं लगाइये- राजेन्द्र प्रसाद पटेल ‘रंजन’
४२. सूना-सूना जग दिखे- दोहेे- गुणवती गुप्ता ‘गार्गी’
४३. धरती माता है- राजकुमार जैसवाल
४४. वृक्ष होते जग मीत- नवीन कुमार भट्ट ‘नीर’
४५. मन का पर्यावरण- रामावतार ‘निश्छल’
४६. वृक्ष हमारे मित्र हैं- मुरारि पचलंगिया
४७. धरा हुई है निरुपाय- साधना कृष्ण
४८. आओ पेड़ लगाएँ- रुपेश कुमार
४९. नहा रही है चिड़िया रानी- बाबा बैद्यनाथ झा
५०. वृक्ष धरा की शान है- मन्शा शुक्ला

५१. धरती की पुकार- आरीनिता पांचाल 
५२. शुद्ध हवा जो चाहिए- मिथिलेश सिंह ‘मिलिंद’
५३. दिवस हरित हो- रचना उनियाल
५४. बचाएं पर्यावरण- माया शर्मा
५५. धरती माँ की पुकार- कवि जसवंत लाल खटीक
५६. पेड़- अंशु प्रिया अग्रवाल
५७. वृक्ष की पुकार- मीना तिवारी
५८. आकर देखो इन वन में- राकेश कुमार ‘हरियाणवी’
५९. सोते को जगाओ आज- के आर कुशवाह ‘हंस’
६०. हरी भरी रहे धरा- डा० भारती वर्मा ‘बौड़ाई’
६१. मत मनाओ एक दिन का दिवस- ज्योति सिंह
६२. पर्यावरण की बात- राजेश कुमार कौरव ‘सुमित्र’
६३. पेड़ हमारे हमसफर- उमा मिश्रा प्रीति
६४. वृक्षों को लगाओ खूब- कृष्णप्रेमी प्रमोद पाण्डेय
६५. हरीतिमा जीवन देती- सीमा मिश्रा 
६६. आओ पेड़ लगाएँ- कवि आशुतोष 
६७. आओ मिलकर वृक्ष लगायें- डॉ. बंदना चंद   
६८. पर्यावरण सांसों का नाम- इंदु वर्मा
६९. अब भी चेत जाइए- वंदना सोलंकी ‘मेधा’
७०. एक पेड़ लगाना- कुमुद श्रीवास्तव वर्मा ‘कुमुदिनी’
७१. पेड़ लगाओ- सीताराम राय 
७२. प्रकृति को दें नया रंग- मोनिका प्रसाद 
७३. बदल इंसान गये- उमाकान्त यादव ‘उमंग’
७४. पर्यावरण साँसों का नाम है- अनिता शरद झा ‘आद्या’ 
७५. पेड़ों की रक्षा चुनो- भावना ठाकर

७६. मानव भूला सद्व्यवहार- उषा सक्सेना
७७. शुद्ध हवा चाहिए- डाॅ. एन एल शर्मा ‘निर्भय’
७८. हरियाली बढ़ाओ- बजरंग लाल केजडी़वाल
७९. कर लो सोच विचार- दोहे- सच्चिदानंद तिवारी
८०. पेड़ करें पुकार- कलावती करवा
८१. धरती माँ पुकारती- सुमति श्रीवास्तव
८२. तरु ही अपना जीवन है- ऋतुदेव सिंह ‘ऋतुराज’
८३. चलो धरा को बचाएं- किरणप्रभा अग्रहरी गुप्ता
८४. पेड़ है पुत्र समान- नीरू मित्तल
८५. हरी भरी धरती है- शिव सन्याल
८६. घर-घर में संदेश पहुंचाएं- प्रेम बजाज
८७. खिलने दो- राम भगत नेगी 
८८. वृक्ष हमारे मित्र हैं- अमिता रवि दूबे
८९. वृक्षों से जीवन मिले- डाॅ0 महालक्ष्मी सक्सेना ‘मेधा’ 
९०. वृक्षों को हम बेटा मानें- डॉ.विजय नागपाल ‘नाविक’
९१. पृथ्वी जीवन का आधार है- उषा पांडेय
९२. चेत जा हे मानव- किरन पंत ‘वर्तिका’
९३. आओ साथी वृक्ष लगाएं- राजेश जोशी
९४. वृक्षारोपण सब करें- दोहे- रोशन बलूनी
९५. प्रकृति माता तुल्य- रीना वर्मा प्रेरणा 
९६. धरती की पुकार- स्नेहलता द्विवेदी ‘आर्या’
९७. पेड़ लगाएँ प्रेम से- दोहे- नफे सिंह योगी मालड़ा
९८. चारों ओर पेड़ लगायें- कृपाल सिंह शीला 
९९. वृक्षारोपण कीजिए- दोहे- आशीष पाण्डेय जिद्दी
१००. आओ मिलकर पेड़ लगायें- डा. मीना कौशल ‘प्रियदर्शिनी’

* पूरी पुस्तक आनलाइन यहाँ 👇👇 पर पढ़िए-

Please wait while flipbook is loading. For more related info, FAQs and issues please refer to DearFlip WordPress Flipbook Plugin Help documentation.

Share this post

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!