साथियों, देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है। इसलिए हम सभी को सजग रहने की जरूरत है। वैक्सीन जरूर लगायें और कोविड नियमों का पालन करें। तभी हम स्वयं की व दूसरों की सुरक्षा कर पाने में सक्षम हो पायेेंगे।

कुमाउनी पत्रिका ‘ब्याण तार’ और उससे जुड़ी तस्वीरें

कुमाउनी पत्रिका ‘ब्याण तार’ और उससे जुड़ी तस्वीरें

 



कुमाउनी पत्रिका- ‘ब्याण तार

       1990-92 के कालखंड में अल्मोड़ा से कुमाउनी में एक मासिक हस्तलिखित पत्रिका प्रकाशित होती थी और उसकी प्रतियाँ फोटोकापी कर वितरित की जाती थी। उस पत्रिका का नाम था- ‘ब्याण तार’। 

       ‘ब्याण तार’ मासिक पत्रिका का प्रकाशन मार्च, 1990 में अल्मोड़ा से शुरू हुआ। इसके संपादक द्वय अनिल भोज और दीपक कार्की थे। इस पत्रिका में साहित्य की कविता, कहानी, लेख, व्यंग्य, आत्मकथा, लोक साहित्य आदि विधाओं को स्थान दिया जाता था। 

         इस फोल्डरनुमा पत्रिका में रमेश चंद्र शाह, गोपाल दत्त भट्ट, देवसिंह पोखरिया, दामोदर जोशी ‘देवांशु’, रतनसिंह किरमोलिया, जगदीश जोशी, मोहम्मद अली अजनबी, विशनदत्त जोशी ‘शैलज’, महेंद्र मटियानी, डा० राम सिंह, एम० डी० अंडोला, कैलाश चंद्र लोहनी, मनोहर बृजवाल, देवकी मेहरा, दिवा भट्ट, देवकीनंदन कांडपाल आदि तमाम समकालीन रचनाकारों की रचनाएँ प्रकाशित होती थीं। 

पत्रिका का नाम- ‘ब्याण तार’ (कुमाउनी मासिक) 
प्रकाशन वर्ष- मार्च, 1990
प्रकाशन स्थल- अल्मोड़ा
संपादक- अनिल भोज व दीपक कार्की

                 



          पत्रिका की कुछ तस्वीरें

 पत्रिका का पहला पृष्ठ
 संपादकीय पृष्ठ
   प्रकाशित काव्य रचनाएँ
पत्रिका का मुखपृष्ठ
    विषय सूची पृष्ठ
पत्रिका में प्रकाशित कविता

चित्र साभार- ‘पहरू’ कार्यालय, अल्मोड़ा। 

 



Share this post

Add a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!