साथियों, देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है। इसलिए हम सभी को सजग रहने की जरूरत है। वैक्सीन जरूर लगायें और कोविड नियमों का पालन करें। तभी हम स्वयं की व दूसरों की सुरक्षा कर पाने में सक्षम हो पायेेंगे।

Category: गीत ( Songs )

जिंदगी का हश्र

            जिंदगी का हश्र जिंदगी-जिंदगी कहता रहा, मगर जिंदगी को कभी जान न पाया। करता रहा दुनिया की बातें, मगर खुद को कभी पहचान न पाया।   कभी दौलत के पीछे कभी शोहरत के पीछे हर पल-हर दिन भागता रहा पर मुस्कुराने का कोई सामान न पाया। जिंदगी- जिंदगी कहता

जिंदगी की रीत

             जिंदगी की रीत कहीं पर है नफरत, कहीं पर है प्रीत साथिया बड़ी अजब-सी है, जिंदगी की रीत साथिया ।   कोई हंसता है, महलों के पीछे कोई तड़पता है, आसमां के नीचे कहीं पर जागते हैं, अरमां रात भर कहीं पर है नींद साथिया। बड़ी अजब-सी है, जिंदगी
error: Content is protected !!