साथियों, देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है। इसलिए हम सभी को सजग रहने की जरूरत है। वैक्सीन जरूर लगायें और कोविड नियमों का पालन करें। तभी हम स्वयं की व दूसरों की सुरक्षा कर पाने में सक्षम हो पायेेंगे।

Tag: पवनेश ठकुराठी

डॉ. पवनेश की शोधपरक पुस्तक: मानसरोवर के नारी पात्र

मानसरोवर के नारी पात्र      डॉ. पवनेश की ‘मानसरोवर के नारी पात्र’ पुस्तक का प्रकाशन वर्ष 2014 में अल्मोड़ा किताब घर, अल्मोड़ा से हुआ। इस पुस्तक में कथाकार प्रेमचंद के 8 भागों में प्रकाशित ‘मानसरोवर’ कहानी संग्रह की कुल 203 कहानियों के नारी चरित्रों को सूचीबद्ध किया गया है। पुस्तक प्रेमचंद के शोधार्थियों हेतु

शोध पुस्तक: प्रेमचंद के उपन्यासों के नारी पात्र

प्रेमचंद के उपन्यासों के नारी पात्र       डॉ. पवनेश की ‘प्रेमचंद के उपन्यासों के नारी पात्र’ पुस्तक का प्रकाशन वर्ष 2014 में अल्मोड़ा किताब घर, अल्मोड़ा से हुआ। इस पुस्तक में कथाकार प्रेमचंद के समस्त 14 उपन्यासों के नारी पात्रों को सूचीबद्ध किया गया है। पुस्तक प्रेमचंद के शोधार्थियों हेतु उपयोगी है।   

डॉ. पवनेश की समालोचना पुस्तक: जयशंकर प्रसाद की कहानियों के नारी चरित्रों का सामाजिक­- सांस्कृतिक अध्ययन

जयशंकर प्रसाद की कहानियों के नारी चरित्रों का सामाजिक­- सांस्कृतिक अध्ययन (हिंदी शोध ­समालोचना संग्रह, 2014)          Jayshankar Prasad ki kahaniyon ke nari charitron ka samajik- saanskritik adhyayan           वर्ष 2014 में अविचल प्रकाशन, बिजनौर से प्रकाशित डॉ. पवनेश ठकुराठी की इस शोधपरक पुस्तक में मुंशी प्रेमचंद के समकालीन

डॉ. पवनेश का कविता संग्रह- नदी एक डायन थी

कविता संग्रह – नदी एक डायन थी ( Poetry Collection-Nadi Ek Dayan Thi )      साल 2013 में अल्मोड़ा किताब घर से प्रकाशित पवनेश ठकुराठी के इस हिंदी कविता संग्रह में कुल 47 कविताएँ संगृहीत हैं। ये कविताएँ 16,17 जून, 2013 को उत्तराखंड में आई भीषण प्राकृतिक आपदाओं पर केंद्रित हैं। ये कविताएँ प्रकृति

डॉ. पवनेश का कविता संग्रह- दो पेज की चिट्ठी में

कविता संग्रह – दो पेज की चिट्ठी में ( Poetry Collection- Do Page Ki Chiththi mai )      साल 2013 में अल्मोड़ा किताब घर से प्रकाशित पवनेश ठकुराठी के इस हिंदी कविता संग्रह में कुल 56 कविताएँ संगृहीत हैं। ये कविताएँ युवा मन की कविताएँ हैं, जो अपने समाज की विडंबनाओं को उजागर करने
error: Content is protected !!