साथियों, देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है। इसलिए हम सभी को सजग रहने की जरूरत है। वैक्सीन जरूर लगायें और कोविड नियमों का पालन करें। तभी हम स्वयं की व दूसरों की सुरक्षा कर पाने में सक्षम हो पायेेंगे।

पहाड़ की सौगात: तरूड़

पहाड़ की सौगात: तरूड़          तरूड़ एक पर्वतीय कंदमूल है, जिसे तौड़, तैड़ू आदि नामों से भी जाना जाता है। भारत में तरूड़ हिमालयी राज्यों विशेषकर उत्तराखण्ड, जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, अरूणाचल प्रदेश, असम आदि राज्यों में समुद्र तल से 500 से 3200 मीटर तक की ऊंचाई वाले स्थानों पर पाया जाता

शोध पुस्तक: प्रेमचंद के उपन्यासों के नारी पात्र

प्रेमचंद के उपन्यासों के नारी पात्र       डॉ. पवनेश की ‘प्रेमचंद के उपन्यासों के नारी पात्र’ पुस्तक का प्रकाशन वर्ष 2014 में अल्मोड़ा किताब घर, अल्मोड़ा से हुआ। इस पुस्तक में कथाकार प्रेमचंद के समस्त 14 उपन्यासों के नारी पात्रों को सूचीबद्ध किया गया है। पुस्तक प्रेमचंद के शोधार्थियों हेतु उपयोगी है।   

शोध पुस्तक: जयशंकर प्रसाद की कहानियों के नारी पात्र

जयशंकर प्रसाद की कहानियों के नारी पात्र      ‘जयशंकर प्रसाद की कहानियों के नारी पात्र’ पुस्तक वर्ष 2014 में अल्मोड़ा किताब घर, अल्मोड़ा से प्रकाशित हुई है। इस पुस्तक में लेखक डॉ. पवनेश द्वारा कथाकार जयशंकर प्रसाद की कुल 70 कहानियों के नारी पात्रों को सूचीबद्ध किया गया है। पुस्तक प्रसाद के शोधार्थियों हेतु

डॉ. दीपा कांडपाल का कुमाउनी कहानी संग्रह: चलक

डॉ. दीपा कांडपाल का कहानी संग्रह: चलक साथियों, आज हम चर्चा करते हैं कुमाउनी कहानी संग्रह ‘चलक’ के विषय में। इस कहानी संग्रह की लेखिका हैं, डॉ. दीपा कांडपाल। आइये जानते हैं पुस्तक और लेखिका के विषय में- कहानी संग्रह के विषय में- चलक        कुमाउनी कहानी संग्रह ‘चलक’ की कहानीकार हैं डॉ.

जगदीश पांडेय की पेंटिगों का अलौकिक संसार

साथियों, आज हम आपको मिलाते हैं कूची के बाजीगर जगदीश पांडेय जी से-   कूची के बाजीगर: जगदीश पांडेय जीवन परिचय-          मशहूर चित्रकार जगदीश पांडेय का जन्म 9 अगस्त, 1958 को अल्मोड़ा के जागेश्वर में हुआ। आपके पिता का नाम श्री डी. डी. पांडेय और माता का नाम श्रीमती तारा देवी

रा० इ० का० नाई में धूमधाम से मनाया गया लोक संस्कृति दिवस

रा० इ० का० नाई में धूमधाम से मनाया गया लोक संस्कृति दिवस अल्मोड़ा, लोक संस्कृति मानव समाज का दर्पण है। लोक संस्कृति के संरक्षण के लिए समाज को आगे आना होगा। इंद्रमणि बडोनी ने उत्तराखण्ड की लोकसंस्कृति को आगे बढ़ाने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। यह बात बतौर मुख्य अतिथि कुलदीप सिंह अल्मिया ने कही।

साल 2021 के विक्टोरिया क्राॅस कैप्टन गजे घले पुरस्कार से सम्मानित होंगे घनानंद पांडे ‘मेघ’

विक्टोरिया क्राॅस कैप्टन गजे घले पुरस्कार 2021 से सम्मानित होंगे घनानंद पांडे ‘मेघ’       अल्मोड़ा, वर्ष 2021 का विक्टोरिया क्राॅस कैप्टन गजे घले पुरस्कार कुमाउनी लेखक घनानंद पांडे ‘मेघ’ (लखनऊ) को दिया जायेगा। इस पुरस्कार हेतु गठित चयन समिति सदस्यों द्वारा विचार विमर्श करने के बाद घनानंद पांडे ‘मेघ’ का नाम घोषित किया

शेर सिंह बिष्ट ‘अनपढ़’ कुमाउनी कविता पुरस्कार 2021 से डॉ. कीर्तिबल्लभ शक्टा होंगे सम्मानित

शेर सिंह बिष्ट ‘अनपढ़’ कुमाउनी कविता पुरस्कार 2021 से डॉ. कीर्तिबल्लभ शक्टा होंगे सम्मानित        अल्मोड़ा, कुमाउनी साहित्य में इस वर्ष का शेर सिंह बिष्ट ‘अनपढ़’ कुमाउनी कविता पुरस्कार कुमाउनी कवि डॉ. कीर्तिबल्लभ शक्टा को दिया जाएगा। कविता पुुुरस्कार हेतु चयनित समिति के सदस्यों द्वारा विचार-विमर्श के बाद डॉ. कीर्तिबल्लभ शक्टा (चंपावत) का

गोपाल बोरा को मिलेगा गंगा अधिकारी स्मृति नाटक लेखन पुरस्कार

गोपाल बोरा को मिलेगा गंगा अधिकारी स्मृति नाटक लेखन पुरस्कार 2021     अल्मोड़ा, इस वर्ष का गंगा अधिकारी स्मृति नाटक लेखन पुरस्कार कुमाउनी लेखक गोपाल बोरा को दिया जायेगा। इस नाटक लेखन पुुुरस्कार हेतु चयनित समिति के सदस्यों द्वारा विचार-विमर्श के बाद श्री गोपाल बोरा (बागेश्वर) का नाम घोषित किया गया। श्री बोरा को

पहले राम सिंह लोधियाल स्मृति साहित्य पुरस्कार से सम्मानित होंगे केशवानंद जोशी

पहले राम सिंह लोधियाल स्मृति साहित्य पुरस्कार से सम्मानित होंगे केशवानंद जोशी अल्मोड़ा। पहले राम सिंह लोधियाल स्मृति साहित्य पुरस्कार से कुमाउनी साहित्यकार केशवानंद जोशी को सम्मानित किया जायेगा। श्री जोशी को यह पुरस्कार कुमाउनी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति प्रचार समिति कसारदेवी, अल्मोड़ा व ‘पहरू’ मासिक पत्रिका द्वारा आगामी 25, 26, 27 दिसम्बर 2021 को
error: Content is protected !!